धनुरासन
Next Article भुजंगासन
Previous Article चक्रासन

धनुरासन

इस आसन में शरीर की आकृति खींचे हुए धनुष जैसी बनती है अतः इसको धनुरासन कहा जाता है । ध्यान मणिपुर चक्र में श्वास नीचे की स्थिति में रेचक और ऊपर की स्थिति में पूरक

विधि : भूमि पर बिछे हुए कम्बल पर पेट के बल उल्टे होकर लेट जायें दोनों पैर परस्पर मिले हुए रहें अब  दोनों पैरों को घुटनों से मोडें दोनों हाथों को पीछे ले जाकर दोनों पैरों को टखनों से पकडें रेचक करके हाथ से पकडे हुए पैरों को कसकर धीरे-धीरे खींचें जितना हो सके उतना सिर को पीछे की ओर ले जाने की कोशिश करें दृष्टि भी ऊपर एवं पीछे की ओर रहनी चाहिए समग्र शरीर का बोझ केवल नाभिप्रदेश के ऊपर ही रहेगा कमर से ऊपर का धड एवं कमर से नीचे पूरे पैर ऊपर की ओर मुडे हुए रहेंगे कुम्भक करके इस स्थिति में टिके रहें बाद में हाथ खोलकर पैर तथा सिर को मूल अवस्था में ले जायें और पूरक करें प्रारंभ में पाँच सेकन्ड यह आसन करें धीरे-धीरे समय बढाकर तीन मिनट या उससे भी अधिक समय इस आसन का अभ्यास करें तीन-चार बार यह आसन करना चाहिए

लाभ : धनुरासन के अभ्यास से पेट की चरबी कम होती है गैस दूर होती है पेट के रोग नष्ट होते हैं कब्ज में लाभ होता है भूख खुलती है छाती का दर्द दूर होता है हृदय की धडकन दूर होकर हृदय मजबूत बनता है गले के तमाम रोग नष्ट होते हैं आवाज मधुर बनती है श्वास की क्रिया व्यवस्थित चलती है मुखाकृति सुन्दर बनती है आँखों की रोशनी बढती है और तमाम रोग दूर होते हैं हाथ-पैर में होनेवाला कंपन रुकता है शरीर का सौन्दर्य बढता है पेट के स्नायुओं में qखचाव आने से पेट को अच्छा लाभ होता है आँतों पर खूब दबाव पडने से पेट के अंगों पर भी दबाव पडता है फलतः आँतों में पाचकरस आने लगता है इससे जठराग्नि तेज होती है, पाचनशक्ति बढती है वायुरोग नष्ट होता है पेट के क्षेत्र में रक्त का संचार अधिक होता है धनुरासन में भुजंगासन और शलभासन का समावेश हो जाने के कारण इन दोनों आसनों के लाभ मिलते हैं स्त्रियों के लिए यह आसन खूब लाभकारक है इससे मासिक धर्म के विकार, गर्भाशय के तमाम रोग दूर होते हैं

Next Article भुजंगासन
Previous Article चक्रासन
Print
4718 Rate this article:
4.8
Please login or register to post comments.
RSS
135678910Last