बच्चों में बुराई नहीं होती
Next Article हकीकत राय के क्यों दिया अपना बलिदान
Previous Article स्वास्थ्य एवं पर्यावरण रक्षक प्रकृति के अनमोल उपहार

बच्चों में बुराई नहीं होती


बच्चे जैसा देखते हैं, जैसा सुनते है देर-सवेर वैसी दिशा में जाते हैं । गंदी फिल्में देखकर हमारे ऊँचे संस्कार वाले बच्चों के जीवन का ह्रास न हो और उनमें अच्छे संस्कार पड़ें इस हेतु से 'बाल संस्कार केन्द्र' प्रारम्भ हुए ।

वास्तव में बच्चों में बुराई नहीं होती है, बुराई वे देख-देख के, सुन-सुन के सीखते हैं । वास्तव में तो बुद्धि सच्चाई और सज्जनता के पक्ष में ही रहती है । मुझे इस बात की प्रसन्नता है कि 'बाल संस्कार केन्द्र' में जाने वाले बच्चों को कुछ-न-कुछ सत्संस्कार मिलते हैं । बच्चे माता-पिता का आदर करते हैं, सूर्यनारायण को अर्घ्य देते हैं, तुलसी के पत्तों का सेवन करने से रोगों से बचते हैं और पवित्र संस्कारों के दृढ़ होने पर दुर्गुण-दुराचार से और दुर्गुणी-दुराचारियों के प्रभाव से भी बचते हैं ।
Next Article हकीकत राय के क्यों दिया अपना बलिदान
Previous Article स्वास्थ्य एवं पर्यावरण रक्षक प्रकृति के अनमोल उपहार
Print
1209 Rate this article:
3.5
Please login or register to post comments.
RSS
1345678910Last